শুক্রবার, মে 24, 2024
HomeNewsRahat Indori Shayari

Rahat Indori Shayari

Rahat Indori Shayari

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ नहीं महसूस होता,

जब भी कोई खुदा का नाम लेता हूँ।

Rahat Indori Shayari
Rahat Indori Shayari

ख़ामोशी गुनगुनाहट सी हो जाती है,

जब रूह मेरी आपकी रूह से मिलती है।

Lakshmi Ji ki Aarti आरती लक्ष्मी जी की

Rahat Indori Shayari

इश्क़ ने ज़िंदगी का अद्भुत चेहरा दिखाया,

हमने उसके चेहरे को अपने हक़ से सजाया।

जिस्म की बात थी हमसे तो दिल भी बयां कर देते,

फ़िर क्यों अजनबी सी हो गईं, जब मिला दिया हमसे।

Rahat Indori Shayari

हर बार का खुदा इंसान नहीं होता,

हर आदमी का ख़ुदा ख़ास नहीं होता।

Rahat Indori Shayari

Rahat Indori Shayari

दुनिया की खुशी ख्वाहिशों से मिली होती है,

मोहब्बत की खुशी आशियां से मिली होती है।

If you like this post then please share this post with your social media account. We publish news and career-related post on our website. Thank you.

Previous article
Next article
RELATED ARTICLES

Most Popular

close